नरवाई की आग से फसले हो रही खाक। कृषको द्वारा खेता की नरवाई को नष्ट करने लगाई आग अन्य कृषको के लिए आफत बन रही है। जलती नरवाई की चिंगारी उड़ कर दूसरे खेतो में गिरने से आग के जोर पकडऩे से नरवाई के साथ फसलो को स्वाहा कर रही है। आज भी नरवाई में लगी आग से लखनवाड़ा क्षेत्रान्तर्गत ग्राम लोनिया, सिमरिया एवं हिमरा ढेकी आदि ग्रामो की १००० एकड़ के खेत में आग से धू-धू कर जल उठे। जिस बुझाने में ०२ फायर ब्रिगेड को ०५ घंटे लगे।

प्राप्त जानकारी अनुसार लोनिया सरपंच अपनी मोटरसाईकिल से कही जा रहा था। अचानक आग की चिंगारी मोटरसाईकिल में गिरने से आग से माटरसाईकिल जल गई। उसके द्वारा आग लगने की जानकारी थाने में दी गई। नरवाई जलाने के मामले में प्रशासन की चेतावनी के बावजूद अपने खेतो की नरवाई में आग लगा रहे है। इससे उनके खेत की उर्वरता के साथ नमी थी खत्म होती है। दूसरे नरवारई से उड़ी चिंगारी से समीप के खेत भी आग की चपेट मे आ रहे है। वही हवा के चलते आग विकराल रूप धारण कर रही है। लखनवाड़ा क्षेत्रान्र्गत ग्राम लोनिया, सिमरिया एवं हिमरा ढेकी में भी कृषको द्वारा अपनी खेतो की नरवाई में आग लगाई गई। जब आग ने उग्र रूप धारण कर १००० एकड़ को अपने लपेटे में ले लिया। तब जाकर कृषको द्वारा आग लगने की सूचना थाने में दी जाती है।
बताया गया है कि आग लगने की सूचना पर ०२ फायर ब्रिगेड तत्काल घटना स्थल रवाना किये गये। आग इतना भीषण रूप धारण किये हुए थी कि वह आगे गांवो के मकान तक आ पहुंची थी। फायर ब्रिगेड ने सही समय पर पहुंच कर आग की मकानो को लपेटे में ले लेने से बचा लिया। वर्ना १५-२० मकाल जल जाते। आग की उग्रमा इतनी भीषण थी कि ०२ फायर ब्रिगेड को उसे बुझाने में ०५ घंटे का समय लगा। उक्त आगजनी से लगभग ०१ लाख की नुकसानी होना बताया गया है।
आगजनी की एक अन्य घटना धनौरा क्षेत्रान्तर्गत ग्राम बम्होड़ी में भी घटित हुई। बताया गया है कि कृषक के खेत में अज्ञात कारणो से आग लग गई। जिससे खेत में बना मकान भी जल गया। खेत में रखे खेती के सामान फसल और मकान जलने से कृषक को लाखो का नुकसान हो गया। जिसे सूचना पर घटना स्थल पहुंची फायर ब्रिगेड द्वारा बुझाया गया।
जिले में इन दिनों आगजनी की घटनाऐ थमने का नाम नही ले रही हैं । जहाँ किशान मौसम की मार झेलकर किसी तरह अन्न उपाजते है परंतु शायद इसे ऊपर वाले की मार कहें या फिर जिले का दुर्भाग्य आगजनि कितने किसानों को अपने आगोश में लेते जा रही है । और किशान के पास पश्चाताप के सिबा कुछ नही रहता ताजा मामला घंसौर विकासखंड के लुटमरा ग्राम पंचायत के तेंदपानी गांव का है जहाँ खेत में मकान बनाकर अपनी गुजरबसर कर रहे गरीब किशान डुमरी लाल उइके के मकान में आग लग गई जिससे मकान में रखी लाखों की फसल जलकर तवाह हो गई ओर फिर एक बार घंसौर क्षेत्र में फायर ब्रिगेड की कमी क्षेत्रवासियों को खलने लगी इतने बड़े क्षेत्र में आग जनि की घटनाओं पर काबू पाने के लिए कोई पर्याप्त साधन न होना क्षेत्र की दुख:द कहानी को बयां करता है ।प्रत्यक्षदर्शियों की माने तो आग लपटे इतनी भयानक थीं की चंद मिनटों में पूरा का पूरा मकान उसकी चपेट में आ गया जिससे किशान के 25 बोरी गेंहू 8 बोरी चना कुछ बोरी बटरी व डीजलपंप जलकर खाक हो गया ।
ज्ञातव्य है कि आग लगने की घटनाएं रोजाना प्रकाश में आ रही है। कही शार्ट सर्किट से आग लग रही है तो कही अज्ञात कारणो से खेतो में आगजनी हो रही है। अंदाजा लगाना मुश्किल है कि आग वाकई में उक्त कारणो से लगी अथवा कृषको द्वारा खेतो की नरवाई जलाने हेतु स्वंय आग लगाई गई है।