20 वर्षीय युवती  ने किया अग्रिस्नान  आदिवासी सुदूर अंचल क्षेत्र कुरई थाना क्षेत्र के मुख्यालय में शाम ६ बजे बी.एस.सी. द्वितीय वर्ष में अध्ययनरत २० वर्षीय युवती ने घर के शौचालय में अपनी ऊपर मिट्टी तेल डालकर आग लगाकर अपनी ईहलीला समाप्त कर ली। वहीं कुरई मुख्यालय इस घटना को लेकर हर व्यक्ति आश्चर्य चकित हो गया है।
कुरई पुलिस से मिली जानकारी अनुसार कुरई विकासखण्ड के ग्राम चिखली की रहने वाली २० वर्षीय कुमारी रचना पिता गुलाबचंद मेंडे कुरई में अपने चाचा-चाची के यहां रहकर स्नातक की पढ़ाई पूरी कर रही थी। वहीं शुक्रवार की शाम ०६ बजे जब उक्त २० वर्षीय युवती की चाची साप्ताहिक बैठकी बाजार में घरेलू सामान लाने गई थी। तभी उक्त युवती ने अपने आप को शौचालय में बंद करके अपने ऊपर मिट्टी का तेल डालकर आग लगा ली। जैसे-जैसे आग ने उक्त २० वर्षीय युवती को अपनी आगोश में लिया वैसे ही वैसे उसकी चीख पुकारे कस्बे में सुनाई देने लगी। चीख पुकार सुनकर घर में बैठे युवती का चाचा दौड़कर शौचालय पहुंचा तो अपनी भतीजी को शौचालय में बंद चिल्लाता देख मदद के लिए पड़ोसियो के पास पहुुंचा और पड़ोसियों को एकत्र कर शौचालय को दरवाजा तोड़ा तो उसने देखा की उसकी भतीजी आग में लगभग १०० प्रतिशत झुलस कर बेहोश होकर नीचे गिरी पड़ी थी।
पुलिस सूत्रो ने आगे बताया कि इस घटना की सूचना थाना कुरई में दी गई जहां पुलिस ने तत्काल घटना स्थल पर पहुंचकर देखा कि उक्त २० वर्षीय युवती की मौत हो चुकी थी। पुलिस ने मामले की प्रथम द्दष्टया में १७४ जाफौ. के तहत मर्ग कायम कर शव को पोस्ट मार्टम के लिए पहुंचा दिया गया है।
यहां यह उल्लेखनीय होगा कि चाचा-चाची के यहां स्नातक की पढाई पूरी कर रही २० वर्षीय युवती के साथ ऐसा क्या उसने ऐसा ह्दय विदारक कदम उठा लिया। क्या उक्त २० वर्षीय युवती कोई ज्यादती का शिकार तो नही हुई या किसी मानसिक तनाव से परेशान थी। किन्तु पुलिस के पास जब तक पोस्टमार्टम रिपोर्ट नही आ जाती तब तक यह कह पाना संभव नही है कि आखिर २० वर्षीय युवती ने अग्रिस्नान क्यों किया।