टी-20 वर्ल्ड कप में इस बार एक नई एशियन टीम डेब्यू करने जा रही है। इंडिया के पड़ोसी नेपाल की टीम भी टी-20 क्रिकेट के महासमर में अपना दमखम दिखाने उतरेगी।

नेपाल का नाम सुनते ही जो सबसे पहला शब्द जहन में आता है वह है गोरखा। नेपाल एक अलग देश जरूर है, लेकिन यहां का कल्चर और रहन-सहन भारत से मिलता-जुलता है। इसी वजह से नेपाली क्रिकेट टीम के खिलाड़ियों के नाम भी भारतीय ही हैं।

प्रदीप, अमृत, नरेश, शक्ति और सागर, ये कुछ ऐसे नाम हैं जो अक्सर भारतीय परिवारों में सुनने को मिलते हैं। नेपाल की टीम में भी ऐसे ही ‘इंडियन’ खिलाड़ी मौजूद हैं।

नेपाली क्रिकेट टीम में कुछ तो ऐसी बात होगी कि उसे टी-20 के वर्ल्ड कप में खेलने का मौका मिला। आज हम आपको इसी पड़ोसी टीम के खिलाड़ियों की खूबियों से रूबरू करवा रहे हैं।

कप्तान – पारस खड़का (फोटो में)

26 साल के पारस 2004, 2006 और 2008 के अंडर-19 वर्ल्ड कप में नेपाल को रिप्रेजेंट कर चुके हैं। पारस की खूबी है दबाव में अच्छा प्रदर्शन। मैच चाहे जिस भी स्थिति में फंसा हो, वे अपने कूल माइंड से स्थिति को संभाल लेते हैं। फिर चाहे अहम ओवर में गेंदबाजी करना हो या बल्लेबाजी, वे हर तरह का दबाव आसान से झेल लेते हैं। इसी वजह से उन्हें नेपाल टीम की कमान सौंपी गई है।

अंडर-19 एशियन क्रिकेट काउंसिल ट्रॉफी 2007 में वे मैन ऑफ द टूर्नामेंट रहे थे। उनके परफॉर्मेंस के दम पर नेपाल ने अंडर-19 वर्ल्ड कप के लिए क्वालिफाई किया था।

2008 के अंडर-19 वर्ल्ड कप में उन्होंने 12 विकेट चटकाते हुए नेपाल को फाइनल तक पहुंचाया था।

अब तक के टी-20 आंकड़े

बैटिंग – 19 मैचों में 4 हाफ सेंचुरी समेत 486 रन। हाई स्कोर – 68 रन

बॉलिंग – 19 मैचों में 20.11 के औसत से 18 विकेट। बेस्ट 22 रन देकर 3 विकेट।

प्रदीप एयरी

21 साल के प्रदीप सिंह एयरी नेपाल टीम के मिडल ऑर्डर बल्लेबाजों में शुमार हैं। टी-20 में उनका स्ट्राइक रेट 111.79 का है। अब तक खेले 17 टी-20 मैचों की 15 पारियों में 199 रन बना चुके प्रदीप के खाते में एक पचासा भी दर्ज है।

बिनोद भंडारी

नेपाल के कंचनपुर जिले के रहने वाले 24 वर्षीय बिनोद टीम में विकेटकीपर का रोल निभाते हैं। टी-20 में गेंद को तेजी से मारने में वे भी उस्ताद हैं। अब तक खेले 10 टी-20 मैचों में उनका स्ट्राइक रेट 130.70 का रहा है। उन्होंने नाबाद 51 रन की पारी समेत 149 रन बनाए हैं।

गत 10 जनवरी 2014 को क्राइस्टचर्च में हुए आईसीसी क्रिकेट वर्ल्ड कप क्वालिफायर टूर्नामेंट के वार्म अप मैच में उन्होंने नामीबिया के खिलाफ 65 रन की पारी खेली थी, जिसमें उन्होंने कुल 60 गेंदों का सामना करते हुए 8 चौके व 3 छक्के जड़े थे।

अमृत भट्टाराय


23 साल के अमृत बॉलिंग एक्सपर्ट हैं। टी-20 वर्ल्ड कप से पहले पीएनजी टीम के खिलाफ शारजाह में हुए क्वालिफाइंग मैच में उन्होंने कुल 27 रन के खर्च पर 2 विकेट चटकाए थे। अब तक उन्हें कुल 6 टी-20 मैच खेलने का मौका मिला है, जिसमें उन्होंने कुल 2 विकेट लिए हैं।

नरेश बुदियार

कंचनपुर से आए एक और नेपाली क्रिकेटर नरेश ने अब तक कोई इंटरनेशनल लेवल का मैच नहीं खेला है। नेपाल के लिए उन्होंने कुल दो मैच खेले हैं, जो कि वार्म अप मुकाबले थे।

नरेश एमसीसी टीम का हिस्सा रहे हैं। जून-जुलाई 2013 में वे मेरिलबॉन क्रिकेट क्लब यूथ क्रिकेट टीम का हिस्सा रहे थे।

शक्ति गौचन

नेपाल के सबसे ‘उम्रदराज’ खिलाड़ियों में शुमार 29 साल के शक्ति को उनके साथी खिलाड़ी ‘बाबू’ कहकर बुलाते हैं।

रूपनदेही जिले के रहनेवाले शक्ति लेफ्ट आर्म स्पिनर हैं। अब तक खेले 18 टी-20 मैचों में वे 20.36 के औसत से 19 विकेट ले चुके हैं। उनका बेस्ट प्रदर्शन 20 रन देकर 4 विकेट लेने का रहा है।

2004 से क्रिकेट में एक्टिव शक्ति को 2012 में ईएसपीएन स्टार ने आईसीसी वर्ल्ड क्वालिफायर के टॉप 11 खिलाड़ियों में शामिल किया था। उनके अलावा कप्तान पारस खड़का को भी यह सम्मान मिला था।

अविनाश कर्ण

19 साल के अविनाश ने अब तक कुल 5 टी-20 मैच खेले हैं, जिनमें उन्होंने कुल 6 विकेट लिए हैं। वे लेफ्ट आर्म फास्ट बॉलिंग करते हैं।

सुभाष खाकुरेल

7 अप्रैल को 21वां बर्थडे सेलिब्रेट करने की तैयारी कर रहे सुभाष भी विकेटकीपर की जिम्मेदारी निभाने में सक्षम हैं। वैसे तो उन्होंने अब तक कुल 10 टी-20 मैच खेले हैं, जिनमें उन्होंने 54 रन के हाई स्कोर समेत 234 रन बनाए हैं, लेकिन उनका टैलेंट यहीं तक सीमित नहीं।

सितंबर 2012 में हुए आईसीसी वर्ल्ड क्रिकेट लीग डिविजन 4 के मैच में उन्होंने 115 रन की यादगार पारी खेली थी। तब महज 19 साल के रहे सुभाष ने बतौर ओपनर 115 रन की शानदार पारी खेली थी। उसी के दम पर नेपाल ने 258 रन का स्कोर खड़ा किया था। उन्होंने अपनी पारी में 142 गेंदों का सामना करते हुए 10 चौकों व 2 छक्कों की मदद से 115 रन बनाए थे। उन्होंने पहले विकेट के लिए 81 और दूसरे विकेट के लिए 69 रनों की उपयोगी साझेदारियां भी की थीं।

ज्ञानेन्द्र मल्ला

23 साल के ज्ञानेन्द्र नेपाली बैटिंग ऑर्डर के अहम सदस्य हैं। गत 21 जनवरी 2014 को कनाडा के खिलाफ आईसीसी वर्ल्ड कप क्वालिफायर मैच में उन्होंने 86 रन की बेहतरीन पारी खेलकर अपना दम दिखाया था।

वर्ल्ड क्रिकेट में आयरलैंड एक मजबूत टीम के रूप में सामने आ रही है। उसी आयरलैंड के खिलाफ गत 12 मार्च को हुए वार्म अप मैच में ज्ञानेन्द्र ने 47 रन की जुझारू पारी खेली।

अब तक 19 टी-20 मैच खेल चुके ज्ञानेन्द्र ने 18 पारियों में 294 रन बनाए हैं। यही नहीं, बतौर विकेटकीपर वे 7 कैच और 5 स्टंपिंग समेत 12 शिकार कर चुके हैं।

जीतेंद्र मुखिया

21 साल के नेपाली फास्ट बॉलर जीतेंद्र ने अब तक कुल 10 टी-20 खेले हैं, जिनके 10 पारियों में उ्नहोंने 21.63 के औसत से 11 विकेट चटकाए हैं। आयरलैंड के खिलाफ वार्म अप मैच में उन्होंने 24 रन देकर 3 विकेट चटकाए थे।

राहुल विश्वकर्मा

21 साल के खब्बू स्पिनर राहुल 2008 के अंडर-19 वर्ल्ड कप में नेपाली टीम का हिस्सा थे। उनके फेवरेट प्लेयर युवराज सिंह हैं और वे क्रिकेट नहीं, बिजनेस में अपना करियर बनाना चाहते हैं।

राहुल के पास इंटरनेशनल टी-20 क्रिकेट का अनुभव नहीं है।

27 फरवरी 2010 को कीर्तिपुर में हुए आईसीसी वर्ल्ड क्रिकेट लीग डिविजन 5 के फाइनल मैच में उन्होंने मैच विनिंग प्रदर्शन किया था। अमेरिका के खिलाफ मैच में उन्होंने कुल 15 रन के खर्च पर 7 विकेट चटकाए थे। इस परफॉर्मेंस के लिए उन्हें मैन ऑफ द मैच का खिताब भी मिला था।